दुमका: मॉडल विद्यालय प्रवेश परीक्षा कदाचारमुक्त सम्पन्न

दुमका: जैक द्वारा संचालित मॉडल विद्यालय प्रवेश परीक्षा 2022 प्लस टू जिला स्कूल, दुमका एवं प्लस टू बालिका उच्च विद्यालय, दुमका परीक्षा केन्द्र पर गुरुवार को शांतिपूर्ण एवं कदाचारमुक्त सम्पन्न होगया। पेट्रोलिंग दंडाधिकारी प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी रानेश्वर राजीव रंजन ने प्लस टू जिला स्कूल, दुमका परीक्षा केन्द्र के समन्यवक प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी, दुमका, पौलिना हेम्ब्रम, एवं स्टैटिक दंडाधिकारी श्यामसुंदर मोदक ने सहायक केंद्राधीक्षक मुदस्सर सुल्तान के साथ सभी परीक्षा कक्ष का औचक निरीक्षण किया। औचक निरीक्षण में परीक्षा शांतिपूर्ण एवं कदाचारमुक्त पाया गया। प्लस टू जिला स्कूल, दुमका के सहायक केंद्राधीक्षक मुदस्सर सुल्तान ने बताया कि परीक्षा के सफल संचालन के लिए सारी तैयारी पहले ही पूरी कर ली गई थी। सहायक केंद्राधीक्षक मुदस्सर सुल्तान ने बताया कि इस प्रवेश परीक्षा में सफल अभ्यर्थियों का नामांकन दुमका जिला के मॉडल विद्यालय में होगा। प्लस टू जिला स्कूल, दुमका परीक्षा केंद्र पर मसलिया, सरैयाहाट एवं रामगढ प्रखंड का एवं प्लस टू बालिका उच्च विद्यालय दुमका परीक्षा केन्द्र पर शिकारीपाड़ा, रानेश्वर एवं जरमुंडी प्रखंड के अभ्यर्थियों का परीक्षा केंद्र था। प्लस टू जिला स्कूल, दुमका के परीक्षा नियंत्रक रूपेश कुमार झा ने बताया कि प्लस टू जिला स्कूल दुमका परीक्षा केंद्र पर कुल आवंटित 408 परीक्षार्थियों में 329 परीक्षार्थी उपस्थित एवं 79 परीक्षार्थी अनुपस्थित थे। जिला शिक्षा पदाधिकारी कार्यालय के लिपिक सनातन सोरेन ने बताया कि प्लस टू बालिका उच्च विद्यालय, दुमका परीक्षा केंद्र पर कुल आवंटित 316 परीक्षार्थियों में 234 उपस्थित एवं 82 अनुपस्थित थे। दुमका जिला में कुल आवंटित 724 परीक्षार्थियों में 563 उपस्थित एवं 161 अनुपस्थित थे।

परीक्षा के सफल संचालन में प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी ,स्टैटिक दंडाधिकारी श्यामसुंदर मोदक, जिला शिक्षा पदाधिकारी कार्यालय के लिपिक सनातन सोरेन, प्लस टू जिला स्कूल,दुमका के पूर्व प्रभारी प्राचार्य दिलीप कुमार झा, परीक्षा नियंत्रक रूपेश कुमार झा, सहायक परीक्षा नियंत्रक प्रकाश कुमार घोष, शिक्षक महेन्द्र राज हंस,संजय कुमार सिन्हा, विजय कुमार दूबे, रंजीत लायक, रामप्रसाद यादव, पार्थ प्रतिम कुण्डू,विद्यासुन्दर नंदी, राजेश कुमार साह, अर्चना कुमारी, सुशिला किस्कू, तरन्नुम परवीन, आराधना कुमारी, हरेकृष्ण झा सुबोध कुमार मंडल, सुचरिता मित्रा, शिक्षणेत्तर कर्मचारी सुखदेव पाल, सुजीत झा, एनोस सोरेन एवं टेरेसा टूडू की भूमिका महत्वपूर्ण रही।

रिपोर्ट- आलोक रंजन Alok Ranjan

Leave a Reply

Your email address will not be published.