देवघर: अमृत महोत्सव के उपलक्ष्य में फेडरेशन संपा चैम्बर द्वारा किया गया कृष्णानन्द झा का सम्मान

आज दिनांक 13.08.22 कोस्वतंत्रता के 75 वर्ष पूरे होने पर अमृत महोत्सव के उपलक्ष्य में कृष्णानन्द झा का फेडरेशन ऑफ संथाल परगना चेंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज के एक शिष्टमंडल ने शाल ओढा़कर सम्मानित किया। साथ ही साथ प्रतीक चिन्ह स्वरूप एक सुन्दर पौधाभी उन्हें भेंट किया।
विदित है कि श्री कृष्णानन्द जी को उनके दीर्घ अनुभव के चलते भारत सरकार ने निति आयोग का सदस्य मनोनित किया हैं।

मौके पर एफएसपीसीसीआई के प्रतिनिधिमंडल ने स्थानीय क्षेत्र के विकास की दीर्घकालीन योजनाओं पर उनसे चर्चाएं हुई एवं सुझाव दिये गये। उन्होंने बताया कि इस क्षेत्र के विकास के लिये गंगा नदी की जल एक नहर के माध्यम से देवघर के शिवगंगा तक लाने की उनकी जो परिकल्पना उन्होंने सन् 1985 में तात्कालिक सरकार को प्रस्तुत थी, उस परियोजना को पुनर्जिवित करने का प्रयास करेंगे ।
इस दौरान बताया गया की चैम्बर ने देश में विदेशी षड्यंत्र के तहत धीरे धीरे जो लघु उद्योग समाप्त होते जा रहे है, उनकी तरफ उनका ध्यान आकर्षित किया। आज जिस प्रकार पूरे देश से चाईनीज आयात की वजह से मापतौल उद्योग पूरी तरह से समूल समाप्त हो गया। जिस सामग्री का निर्माण सिर्फ लघु उद्योग के लिये आरक्षित था, उसके आयात की इजाजत होने की वजह से विदेशों में वृहत उद्योगों के द्वारा निर्मित वस्तुओं का आयात धड़ल्ले से हो रहा है। हमारे देश में बढे़ उद्योगों को उसके निर्माण की इजाजत नहीं थी लेकिन विदेशी आयात (चाहे वो बढे़ उद्योग में बनते हों) की इजाजत है। हमारे देश में कोई भी माप तौल की सामग्री बिना माप तौल विभाग से सत्यापित बिक नहीं सकती, लेकिन सबों को मालुम है ओनलाईन बाजार में सस्ती आयातित माप तौल सामग्री बिना सत्यापन के धड़ल्ले से सरकार की नाक के नीचे बिक रही हैं।
साथ ही लघु उद्योग की इन सभी समस्याओं पर उनके साथ चर्चायें हुई एवं सुझाव दिये गये।

प्रतिनिधिमंडल मे प्रदीप बाजला, संजय खेतान, सुरेन्द्र सिंधानिया, रमेश बाजला, पंकज पचेरीवाल, प्रवीण बाजला, अनिल टेकरीवाल, शंकर लाल सिंघानिया, पवन टमकोरिया आदि शामिल रहे।