हेमंत सरकार में अब तक कूल 4810 महिलाओं के साथ हिंसात्मक घटनाएं हो चुकी है: आशा लकड़ा

दुमका: वर्तमान में झारखंड राज्य में जो झारखंड मुक्ति मोर्चा और कांग्रेस की गठबंधन सरकार है, उसमें बेटियां और महिलाएं खुद को असुरक्षित महसूस कर रही है। इस सरकार के 3 वर्षों में कुल 4810 महिलाओं के साथ हिंसा की घटना घट चुकी है। उक्त बातें भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय मंत्री सह रांची नगर निगम की मेयर आशा लकड़ा ने रविवार को स्थानीय परिसदन में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए कहीं। उन्होंने कहा कि राज्य में कानून व्यवस्था दिनों दिन गिरते जा रही है और अपराधियों का मनोबल बढ़ता जा रहा है। खास तौर पर विगत दिनों दुमका में भी कई ऐसी घटनाएं घटी है जो यह साबित कर रही है कि यहां की बेटियां कितनी सुरक्षित हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री इन दिनों खतियानी जोहार यात्रा के माध्यम से झारखंड के लोगों को अपनी ओर खींचने का प्रयास कर रहे हैं। 1932 के खतियान आधारित स्थानीय नीति को झारखंड में लागू करने के लिए केंद्र सरकार से स्वीकृति लेने की कोई आवश्यकता नहीं है। इसके लिए तो राज्य सरकार खुद ही सक्षम है। लेकिन सच्चाई तो यह है कि यह सब कर मुख्यमंत्री अपना राजनीतिक स्वार्थ को पूरा कर रहे हैं। आशा लकड़ा ने कहा कि आज पूरे राज्य में लॉयन ऑर्डर की स्थिति बद से बदतर हो रही है। जनता का काम नहीं हो रहा है। जनता से जुड़े मुद्दे पर यह सरकार फेल है। लेकिन इन सब बातों से हेमंत सरकार को कोई लेना देना नहीं है। वह तो कंबल ओढ़ कर भी पी रहे हैं।
प्रेस कॉन्फ्रेंस में झारखंड प्रदेश भाजपा महिला मोर्चा की उपाध्यक्ष सह दुमका नगर परिषद् की पूर्व अध्यक्षा अमिता रक्षित एवं भारतीय जनता पार्टी के जिला अध्यक्ष परितोष सोरेन मौजूद थे।

रिपोर्ट- आलोक रंजन Alok Ranjan